Printed T-shirts Dr. BR Ambedkar

Printed T-shirts Dr. BR Ambedkar

Printed Calendar of Dr. BR Ambedkar

Printed Calendar of Dr. BR Ambedkar

Vyavsay aur Nivesh Sikhane Wali Pustaken

Vyavsay aur Nivesh Sikhane Wali Pustaken

Statues of Bahujan Leaders

Statues of Bahujan Leaders

Wednesday, July 10, 2019

शूद्रों की बुद्धि और क्रूरता

शूद्रों के नेता यह नहीं बताते जो बाबा साहिब डॉ. भीमराव आंबेडकर जी ने कहा था कि शूद्रों की क्रूरता के कारण ही ब्राह्मणों ने उनके दमन के लिए कानून बनाए। आज भी शूद्र परिवार से लेकर समाज और राजनीति तक उसी क्रूरता से ग्रस्त हैं। इसी क्रूरता के कारण यह आज भी जातिवाद से ग्रस्त हैं और जाति के खेमों में बंटे हैं। इसी क्रूरता के कारण ये डॉ. आंबेडकर जी का भी अनुसरण नहीं कर पाते।

यह क्रूरता कोई गाय, सूअर या बकरे का मांस खाने या शराब पीने की वजह से नहीं है। बल्कि यह क्रूरता वर्षों तक भारत के राजा बने रहने के कारन हुई है। जब मनुस्मृति से पहले तक ये राजा थे। इसलिए इनमें एक क्रूर शासक की क्रूरता है, जिसका दमन दो हज़ार सालों के ब्राह्मण काल में, और इनके विरुद्ध कानून बना कर भी ख़त्म नहीं हो पाया। इनकी क्रूरता का आलम यह है कि जो इनके लिए अच्छा काम करता है ये उसे ही बुरा कहते हैं। इसका एक उदाहरण है कि जब डॉ. आंबेडकर जी इनके लिए अधिकार की लड़ाई लड़ रहे थे तो ये उनका ही विरोध कर रहे थे और आज उन्हीं की वजह से इन्हें सबकुछ मिला है। इनकी क्रूरता ही इनकी कम बुद्धि का सबूत है। इनकी कम बुद्धि का ही प्रमाण है कि ये आज तक उस धर्म को मानते हैं जो इनका दमन करता है।

शूद्रों की इस वंशानुगत क्रूरता को ये नियंत्रित नहीं कर पाएंगे तो कोई भी काम सही से नहीं कर सकते। वयापार, शासन और सत्ता क्रूरता से नहीं बल्कि कोमल बुद्धि से किए जाते हैं। इन्हें अपनी बुद्धि की उजड़ता को समाप्त करना होगा यदि कोई सकारात्मक काम करना है। मांस और शराब का सेवन तो अमरीका, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया के लोग भी करते हैं, पर उन्होंने अपनी क्रूरता को नियंत्रित किया है। इसलिए क्रूरता को नियंत्रित करके बड़े साम्राज्य और विकसित तकनीक भी ईजाद की जा सकती है। 

शूद्रों की श्रेणी में सभी अनुसूचित जाति, जन जाति और आदिवासियों को रख सकते हैं।  जैसा की कुछ नेता इन्हें मूलनिवासी भी कहते हैं। मैं मूलनिवासी तो नहीं कहूंगा। पर इस सन्दर्भ में यह शब्द भी उचित है। क्रूरता को समझना बहुत जरुरी है। हम दूसरे की क्रूरता तो समझते हैं पर अपनी नहीं समझ पते।  क्या शूद्र डॉ. आंबेडकर जी या अपने संतों की सोच वाले बने हैं ? क्या ये शिक्षा की तरफ सही से बढ़े हैं जो डॉ. आंबेडकर जी के इतने प्रयासों के बाद इन्हें मिली है? क्या शिक्षित और धनवान होने के बाद ये व्यापर या समाज को एक करने की तरफ बढ़े हैं ? क्या राजनीति में इन्होंने आरक्षण के अवसर का लाभ उठाने के सिवा कुछ और किया है ? क्या इन्होंने आपजी जाति से ऊपर की राजनीति की है ? क्या इनके परिवारों में वह प्रजातान्त्रिक और न्याय के मूल्य हैं जो ये द्विज हिन्दुओं से मांगते हैं ? यह फहरिस्त लम्बी हो सकती है। पर इन सबका कारण क्रूरता ही है। और ये पहले अपनी इस क्रूरता को अपने परिवार और फिर अपने समाज पर ही निकालते हैं। यही क्रूरता इन्हें अपनों से अलग रखती है। क्रूरता ने इनकी आँखें बंद कर दी है। क्रूरता ने इनकी बुद्धि बंद कर दी है। यह कुँए के मेंढक की तरह बन गए हैं। ऐसे अंधे जो किसी दूसरे अंधे के कहे पर चलते हैं।

यदि डॉ. आंबेडकर जी के बताए बुद्ध के धम्म को जानते और समझते तो इनकी यह क्रूरता कम होती। पर यह ऐसे हैं कि बौद्ध बन कर भी करुणा को नहीं अपना पाते। यदि बुद्ध की करुणा का पालन करते तो इनकी बुद्धि के चक्षु खुलते। ये किसी और का कुछ नहीं बिगाड़ सकते जब ये पहले से अपना ही बिगाड़ रहे हैं। क्रूरता से जुड़ा है क्रोध, अज्ञानता और अभिमान। क्रूर किसी की नहीं सुनता, किसी की नहीं मानता, वह एक स्वार्थी पशु के सामान होता है। पशु को नियंत्रित किया जा सकता है पर क्रूरता से अंधे हुए व्यक्ति को नहीं। तुलसीदास ने कहा शूद्र है ताड़न (पिटाई) का अधिकारी। असल में किसी की पिटाई से नहीं बल्कि अपनी क्रूरता से शूद्र पिछड़े हैं। क्रूरता आपको जुड़ने नहीं देती। क्रूरता आपको समझदार बनने नहीं देती। क्रूरता आपको आगे बढ़ने नहीं देती। क्रूरता आपको दूसरों से अलग करती है।  इसलिए इस क्रूरता को समझने की जरुरत है और अपनी कमियों को दूर करने की जरुरत है।

मैं खुद अनुसूचित जाति से हूँ और इस क्रूरता को अनुभव  करता हूँ। यह मुझ में और मेरे आसपास, मेरे परिवार और रिश्तेदारों के आलावा अन्य शूद्र जातियों में भी देखता हूँ।  मैं चाहता हूँ कि शूद्रों का जीवन सुधरे। पर इसके लिए कोई और कितनी ही मदद करे, पहले खुद को सुधारना पड़ेगा, ऐसा मैं सोचता हूँ। डॉ. आंबेडकर जी के मिशन में मैं दस वर्षों से काम कर रहा हूँ। मैं दिन-रात विचारों में रहता हूँ कि कैसे शूद्र औरों के द्वारा भी और अपनों के द्वारा भी बेवकूफ बनाए जाते हैं। मैं डॉ. आंबेडकर जी के विचारों से इस सारे मसले को देखता हूँ। इसलिए मैंने शूद्रों की इस क्रूरता को चुना जो खुद डॉ. आंबेडकर जी ने बताई थी और जिसे शूद्रों के नेता नहीं बताते। - निखिल सबलानिया (शूद्रों का साहित्य इस वेबसाइट से खरीदें www.nspmart.com

Friday, June 28, 2019

डॉ. आंबेडकर और फूड फॉर थॉट

फूड फॉर थॉट का शाब्दिक अर्थ है दिमाग के लिए भोजन। जैसे शरीर के लिए भोजन चाहिए होता है, वैसे ही दिमाग के लिए। अच्छा भोजन शरीर सही रखता है। अच्छे और सही विचार दिमाग सही रखते हैं। स्वस्थ शरीर से एक शारीरिक रूप से मजबूत समाज बनता है। अच्छे विचारों से बौद्धिक रूप से एक मजबूत समाज बनता है जो अपना भला-बुरा खूब समझता है। जातियों में बंटा भारत का समाज एक कमजोर समाज है क्योंकि उसके दिमाग में सही विचार नहीं जाते। या तो उसे धार्मिक रूप से ऐसे विचार मिलते हैं जो उसकी सारी बौद्धिक क्षमताओं का दमन का देते हैं, या उसे ऐसे विचार मिलते हैं जिस से वह अन्य लोगों से जाति और धर्म के नाम पर खुद को अलग-थलग कर देता है। समज को सही दिशा देने वाले विचार आम मिडिया और पुस्तकों में कम ही मिलते हैं।
पर डॉ. भीमराव आंबेडकर जी के विचार ऐसे हैं, जिन्हें सही में स्वस्थ फूड फॉर थॉट कहा जा सकता है। जो लोग उन्हें पढ़ते नहीं हैं वह उनके बारे में उटपटांग बाते करते हैं। और जो उन्हें पढ़ लेते हैं वे अपनी और अपने समाज और राष्ट्र की स्थिति सही से समझ लेते हैं। डॉ. आंबेडकर जी ने हज़ारों जातियों में बंटे देश को एक करने के विचार दिए। डॉ आंबेडकर जी ने हिन्दू महिलाओं के उत्थान के लिए विचार दिए। उन्होंने भारत की शिक्षा व्यवस्था को सही करने के लिए विचार दिए। उन्होंने भारत की खेती की समस्या को हल करने के विचार दिए। उन्होंने नैतिक शिक्षा के विचार दिए। उन्होंने राजनैतिक व्यवस्था सुधारने के विचार दिए। इतने गुणवान और बुद्धिमान व्यक्ति के विचारों से अच्छे कोई और विचार हो सकते हैं? और सबसे जरुरी बात यह कि न केवल उन्होंने ईमानदारी से अच्छे विचार ही दिए बल्कि अपना जीवन भी ईमानदारी से जिया। क्या उनसे बेहत्तर कोई है, जो मानव सभ्यता को सही दिशा दे सके ?
अफ़सोस है कि लोग उन्हें या तो गलत समझते हैं या पढ़ते नहीं हैं। मैं उन्हें दस वर्षों से लोगों को पढ़ा रहा हूँ। मैंने दस वर्ष लगा दिए इसी कार्य में कि लोग उन्हें पढ़ें। दस वर्ष मैं धन के पीछे नहीं भागा। दस वर्ष मैंने संघर्ष किया। क्योंकि मैं इस देश का नागरिक हूँ और यहाँ के लोग मेरे अपने लोग हैं। यहाँ की समस्याएं मेरी अपनी समस्याएं हैं। और सबसे बड़ी समस्या है कि कोई सही मर्दर्शक नहीं है। कोई साधु बन कर अच्छे विचार रखता है पर उसका जीवन उसके विचारों के उलट होता है। कई अपने स्वार्थ हेतू अच्छी बातें करते हैं। कई तो यह समझ ही नहीं पाते कि सच क्या है। कई केवल एक पक्ष की ही बात करते हैं। हमें न तो सही से अपना इतिहास, न अपनी राजनीति, न अपना भूतकाल और भविष्य पता है। किसी को हमारा गुरु बना कर थोप दिया गया है और किसी को भगवान। कौन सही है और कौन सही से परिक्षण करके कह रहा है यह नहीं पता।
पर डॉ. आंबेडकर जी के विचार आपको सही ही लगेंगे। और वे ऐसे व्यक्ति के विचार हैं जिसने अपने देश को सर्वोपरि रखते हुए अपने देश के करोड़ों दबे-कुचले लोगों के जीवन को रौशन किया। क्या आपको किसी अन्य मार्ग दर्शक या किसी अन्य गुरु को खोजने की जरुरत है जब स्वयं डॉ. आंबेडकर जी उनके विचारों में आज ज़िंदा है।
इसलिए मेरी अपील है कि उन्हें एक बार तो जीवन में जरूर पढ़ें। किसी भ्रान्ति को स्वीकारने या अस्वीकारने से पहले उसका खुद परिक्षण करें। ऐसे व्यक्ति को तो अवश्य पढ़ना चाहिए जिसने मानव समाज का इतना कल्याण किया है और जो आपके ही देश का है और जिसे समस्त विश्व में न केवल आदर से ही देखा जाता है बल्कि विश्व गुरु भी माना जाता है। आप उनकी लिखित पुस्तकें, भाषण और उनके जीवन से जुड़ी पुस्तकें मुझसे खरीद सकते हैं। आप चाहें मेरे प्रकाशन में फोन करें या वेबसाइट से खरीदें। ध्यान रखे कि यह लेख व्यवसाय के लिए नहीं बल्कि समाज के कल्याण के लिए है। आपका धन ऐसे ही डॉ. आंबेडकर जी के विचारों को आगे बढ़ने में लगेगा और सांसारिक जरूरतें भी एक सत्य है। इसलिए मेरी निष्ठा, लगन और ईमानदारी पर शक करके अपने मस्तिक्ष को अस्वस्थ न करें।
*आपका शुभचिंतक*
निखिल सबलानिया, नई दिल्ली
डॉ. भीमराव आंबेडकर जी की लिखित 35 पुस्तकों का सैट का डाक सहित मूल्य मात्र ₹ 5000. फोन पर ऑर्डर करें या वेबसाइट पर।
वट्सएप करें - 8447913116.
फोन करें - 8851188170.
www.nspmart.com









Tuesday, October 16, 2018

डॉ. भीमराव आंबेडकर जी की लिखित कुछ प्रमुख पुस्तकों का विवरण

1. काँग्रेस और गाँधी ने अछूतों के लिए क्या किया ? : यह पुस्तक न केवल भारत के राजनैतिक इतिहास का ही बल्कि काँग्रेस की कारगुजारियों का भी इतिहास है। आजतक अनुसूचित जाति के लोग भर-भर कर काँग्रेस को वोट देते आए हैं, पर यदि उन्होंने यह पुस्तक पढ़ी होती तो उन्हें पता चलता कि काँग्रेस ने उनके साथ क्या किया। इस पुस्तक में यह भी बताया गया है कि काँग्रेस किस प्रकार से एक ब्राह्मणों की ही पार्टी है और जब वह दूसरी जातियों जैसे कि क्षत्रिय या वैश्य में से किसी को प्रतिनिधि बनाते हैं तो किस प्रकार भेदभाव करते हैं। यह बीते समय की नहीं बल्कि आनेवाले समय की पुस्तक है। इस पुस्तक को प्रत्येक भारतीय को और जो भारत की राजनीती में दिलचस्पी रखते हैं, उन्हें अवश्य पढ़ना चाहिए।
2. अछूत कौन और कैसे? : डॉ आंबेडकर जी की लिखित यह पुस्तक बताती है कि किस प्रकार बौद्धों के साथ ब्राह्मणों ने खान-पान के आधार पर भेदभाव करना शुरू कर दिया और किस प्रकार बौद्ध भारत के अछूत बन गए। यह एक लाजवाब पुस्तक है। भारत के अनुसूचित जाति (दलितों) के साथ जो भेदभाव आज भी बरता जाता है, यह पुस्तक उसकी पोल खोल देती है।
3. शूद्रों की खोज : यह पुस्तक भारत के पिछड़े समाज (O.B.C.) जिसे शूद्र बना दिया गया, के इतिहास को बताती है। इस पुस्तक की विशेषता यह है कि डॉ आंबेडकर जी ने वेदों के आधार पर ही इस पुस्तक में अपने तर्क रखे हैं। वह बताते हैं कि शूद्र कोई दास नहीं थे बल्कि पांडवों की तरह ही एक राजवंश थे और फिर ब्राह्मणों के साथ उनके विरोध के कारण ब्राह्मणों ने अपने ग्रंथों में उनको निम्नन स्तर पर रखा।
4. जातिभेद का बिजनाश (एन्हीलेशन ऑफ कास्ट ) : डॉ आंबेडकर जी की एक अनूठी पुस्तक जो असल में उनका एक ऐसा भाषण था जिन्हें उन्हें लाहौर की जातपात तोड़क मंडल की सभा में देना था। पर आर्य समाज के विरोध के कारण उन्हें यह भाषण देने से रोका गया। पर बाद में उन्होंने इस भाषण को एक पुस्तक का रूप दिया और यह एक चर्चित पुस्तक रही। यह पुस्तक भारत में जातिवाद तोड़ने की एक उद्घोषणा है।
5.वीसा की प्रतीक्षा में : डॉ आंबेडकर जी ने अपने जीवन के कुछ कटु अनुभवों को अपनी इस पुस्तक में संजोया है।
6. बुद्ध और कार्ल मार्क्स : यह बुद्ध और कार्ल मार्क्स के सिद्धांतों की विवेचना है।
7. डॉ. आंबेडकर के प्रेरक भाषण : डॉ आंबेडकर जी के मराठी भाषणों का हिंदी अनुवाद जो पहली बार अनुवादित हुआ है।
8. हिन्दू धर्म की पहेली : हिन्दू धर्म के सिद्धांतों और कहानियों की विवेचना करती यह पुस्तक। इस पुस्तक को हिन्दुओं द्वारा बैन कराने का प्रयास किया गया था जो असफल हो गया।
9. साम्प्रदायिकता और उसकी गुत्थी : यह पुस्तक भारत में साम्प्रदायिक उलझन को सुलझाने की बात कहती है।
10. राज्य और अल्पसंख्यक : यह पुस्तक अल्पसंख्यकों के हित की बताती हैं कि किस प्रकार वह सुरक्षित रह सके।
11. बौद्ध धम्म और साम्यवाद : बौद्ध धम्म और साम्यवाद पर डॉ आंबेडकर जी के विचार इस पुस्तक में शामिल हैं।
12. रानाडे गाँधी और जिन्ना : अपने समय के तीन प्रमुख राजनैतिक और सामाजिक प्रतिष्ठा वाले लोगों की विवेचना।
13. गाँधी और अछुतों की विमुक्ति : क्या गाँधी सच में अछूतों (अनुसूचित जाति) की मुक्ति चाहते हैं ? यह पुस्तक गाँधी और गाँधीवाद को एक ऐसे तराजू में रखती है जिससे कि पता चले कि उनमें अछूतों के कल्याण की कितनी इच्छा थी।
14. पाकिस्तान अथवा भारत का विभाजन : यह पुस्तक आज़ादी से पहले के भारत का एक ऐसा चित्र प्रस्तुत करती है जिसमें नज़र आता है कि भारत के विभाजनों के प्रमुख कारण क्या थे और क्या विभाजन न्यायसंगत और उचित था या नहीं।
15. क्रांति और प्रतिक्रांति : यह एक महत्वपूर्ण पुस्तक है जो कि बताती है कि किस प्रकार भारत में प्रत्येक नई क्रांति को दबा कर एक प्रतिक्रांति की जाती है।
16. बुद्ध और उनका धम्म : भगवन बुद्ध के जीवन, सिद्धांतों और शिक्षा पर आधारित एक महान बौद्ध पुस्तक।
17. संघ बनाम स्वतंत्रता : यह पुस्तक बताती है कि भारत गणराज्य की राजनैतिक संरचना प्रकार की होनी चाहिए।
18. डॉ आंबेडकर की साक्षी साऊथब्रो कमेटी के समक्ष।
19. गांधी व गांधीवाद।
20. भारत का संविधान।
21. डॉ आंबेडकर के पत्र।
22. हिन्दू नारी का उत्थान और पतन : यह पुस्तक भारतीय नारी के पतन के कारण बताती है।
23. सम्मान के लिए धम्म परिवर्तन करें : डॉ आंबेडकर जी के उन भाषणों का संकलन जिसमें उन्होंने धर्म परिवर्तन करने और बौद्ध धम्म अपनाने के लिए अपने तर्क रखे हैं।
24. हिन्दू धर्म का दर्शन : यह पुस्तक हिन्दू धर्म के सिद्धांतों की समीक्षा है। यह एक महत्वपूर्ण पुस्तक है।
25. बहिष्कृत भारत : इस नाम से प्रकाशित होनेवाले समाचार पत्र में छपे डॉ आंबेडकर जी के कुछ प्रमुख लेखों का संकलन।
26. डॉ आंबेडकर के ऐतिहासिक व्याख्यान, भाग -1
27. भाषाई राज्यों पर विचार: यह पुस्तक बताती है कि भारत के राजाओं का भाषा पर आधारित विभाजन कितना उचित है।
28. भारत में छोटी जोतें समस्याएं और समाधान : भारत की कृषि की समस्याओं और उनके निवारण पर प्रकाश डालती यह पुस्तक
29. रूपये की समस्या (उद्भव और समाधान) (The Problem of Rupee): यह डॉ आंबेडकर जी की एक महत्वपूर्ण कृति है जिसने ब्रिटिश सरकार में हलचल मचा दी थी। यह पुस्तक पश्चिमी देशों की पोल खोलती है कि कैसे उन्होंने भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ तोड़ दी थी। यह पुस्तक भारत के अर्थशाश्त्र का एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है।
30. अछूत और ईसाई धर्म : यह पुस्तक बताती है कि भारत में ईसाई धर्म इतना कमजोर क्यों है और किस प्रकार जिन हिन्दुओं ने ईसाई मिशनरी का सबसे अधिक फायदा उठाया, वे ही मिशनरी के शत्रु कैसे बन गए। यह पुस्तक पहली बार हिंदी में अनुवादित की गई जो केंद्र सरकार द्वारा प्रकाशित हिंदी के संस्करण में भी नहीं थी। यह पुस्तक गाँधी का ईसाईयों से द्वेष और भेदभावपूर्ण रवैया भी उजागर करती है।
डॉ आंबेडकर जी पर आधारित कुछ अन्य महत्वपूर्ण पुस्तकें हैं :
31. युगपुरुष बाबा साहिब डॉ भीमराव अम्बेडकर : यह पुस्तक डॉ आंबेडकर जी के जीवन और उनकी शिक्षाओं को विस्तार से बताती है। इस पुस्तक के लेखक स्वयं पेंतालिस वर्षों तक डॉ आंबेडकर जी के संपर्क में रहे थे।
32. भीमा कोरेगांव की शौर्यगाथा : यह पुस्तक भीमा कोरेगांव की विजय और अछूतों के आंदोलनों के बारे में बताती है की किस प्रकार डॉ
33. संविधान सभा में डॉ आंबेडकर : यह एक महत्वपूर्ण पुस्तक है जो कि बताती है कि संविधान को पेश करते समय डॉ आंबेडकर जी ने क्या तर्क दिए थे।
34. हिन्दू कोड बिल - इतिहास और संघर्ष : यह पुस्तक डॉ आंबेडकर जी द्वारा लिखे गए हिन्दू कोड बिल के बारे में बताती है जिसे कि हिन्दुओं के समाज सुधार के रूप में प्रस्तुत किया जाना चाहिए था। पर खुद काँग्रेस के नेताओं, जनसंघियों (आज की बीजेपी), आर्य समाजियों और विश्व हिन्दू परिषद के विरोध के कारण नेहरू ने उस बिल को लोकसभा में नहीं रखा और इस बात पर डॉ. आंबेडकर जी ने लोकसभा से इस्तीफा दे दिया था।
35. डॉ भीमराव आंबेडकर जी की अमरकथा : यह बच्चों और बड़ों, सभी के लिए डॉ आंबेडकर जी की एक संक्षिप्त जीवनी है। यह पुस्तक भारत में बड़े पैमाने पर बांटी जाती है।
36. डॉ आंबेडकर और बौद्ध धम्म : इस पुस्तक में डॉ आंबेडकर जी का नागपुर में दिया दीक्षा समारोह के समय का भाषण है। साथ में इस पुस्तक में बौद्ध धम्म से सम्बंधित ऐसी जानकारियाँ है जो किसी भी अपरिचित को बौद्ध धम्म से अवगत कराती है। यह पुस्तक भी भारत में बड़े पैमाने पर बांटी जाती है।
इन सभी पुस्तकों का सैट आप इस लिंक से खरीद सकते हैं https://www.nspmart.com/product/डॉ-आंबेडकर-जी-की-लिखित-पुस
यह सभी पुस्तकें अलग-अलग आप इस लिंक से खरीद सकते हैं (पुस्तकों के अलग-अलग रेट वेबसाइट पर देखिए ) https://www.nspmart.com/product-category/hindibooks/dr-ambedkar-by-written-books/
फोन द्वारा डाक से पुस्तकें प्राप्त करने के लिए इस नंबर पर फोन करें: M. 8851188170, WA: 8447913116. Email: info@nspmart.com

Saturday, December 5, 2015

जाती और संविधान लेखक: डॉ. भीमराव अम्बेडकर ऑनलाईन पढ़ें व डाऊनलोड करें


जाती और
संविधान
लेखक: डॉ. भीमराव अम्बेडकर
अनुवादक: निखिल सबलानिया
                                      


लेखक: डॉ. भीमराव अम्बेडकर
      अनुवादक: निखिल सबलानिया




प्रथम संस्करण 2015

निखिल सबलानिया प्रकाशन
नई दिल्ली
मोबाईल: 8527533051 ईमेल: sablanian@gmail.com

सर्वाधिकार सुरक्षित ©निखिल सबलानिया
अनुवादक की अनुमति के बिना
इस हिंदी लेख का किसी भी प्रकार
से पुनर्निर्माण करना वर्जित है


स्रोत: MR. GANDHI AND THE EMANCIPATION OF THE UNTOUCHABLES

Chapter IX : Caste and Constitution

यह प्रश्न न्याय सांगत (न्यायोचित) है कि अछूतों की मांगों को संविधान में क्यों शामिल किया जाए? विश्व में कहीं भी संविधान निर्माताओं के समक्ष यह विवशता नहीं थी कि वे ऐसे मुद्दों को देखे। मैं मानता हूँ कि यह एक जरुरी प्रश्न है और जो इस प्रश्न को उठा रहे हैं या इस बात पर दबाव दे रहे हैं कि इसका संवैधानिक महत्त्व है, इसके उत्तर की उनसे ही अपेक्षा है। मेरी दृष्टी में इसका उत्तर स्वाभाविक है। भारत की सामाजिक व्यवस्था से ही यह प्रश्न उत्पन्न होता है कि इसका संवैधानिक महत्त्व है। यह केवल हिन्दुओं की जाती-व्यवस्था और धार्मिक-व्यवस्था ही है जो कि इसके लिए उत्तरदायी हैं। यह संक्षिप्त वक्तवय, विदेशियों के समक्ष हिन्दू जाती-व्यवस्था और धार्मिक व्यवस्था के सामाजिक और राजनीतिक दुष्प्रभाव (बुरे प्रभाव) की यथोचित (जैसी-की-तैसी) व्याख्या के लिए पर्याप्त नहीं है। पर यह भी उतना ही सच है, कि इस लेख की समिति परिधि में, जाती-व्यवस्था के संविधान पर क्या दुष्प्रभाव होंगे, यह विस्तृत रूप से समझना असंभव है। मैं अपनी पुस्तक 'एनिहिलेशन ऑफ़ कास्ट' (जाती का सर्वनाश) में इस विषय का पूर्ण खुलासा करूँगा, जिसे मैंने कुछ समय पहले लिखा है। मेरा मानना है कि यह (पुस्तक) हिन्दुओं की जाती और धार्मिक व्यवस्था के समाजिक और आर्थिक परिणाम पर काफी प्रकाश डालेगी। इस लेख में मैं प्रमुख विचारों को ही प्रस्तुत करूंगा।

संविधान को तैयार करने में सामाजिक संरचना का सदैव ध्यान रखना होता है। राजनीतिक संरचना सामाजिक संरचना से संबंधित होनी चाहिए। सामाजिक शक्तियों का संचालन केवल सामाजिक क्षेत्र तक ही सिमित नहीं रहता। वह राजनीती के क्षेत्र में भी घुस जाते हैं। अछूतों (*अनुसूचित जाती का वर्ग, वे जो गाय खाते थे और कई आधारों में से एक गाय खाने के आधार पर उन्हें 1910 में पहली बार तैयार की गई जनसंख्या की सूचि में अछूतों की श्रेणी में श्रेणीबद्ध किया गया) का यह दृष्टिकोण है और मुझे विशवास है कि यह निर्विवाद है। हिन्दू इस तर्क और इसकी शक्ति से पूरी तरह सचेत हैं। पर वे (हिन्दू) क्या करते हैं, कि वे इससे इंकार करते हैं कि हिन्दू समाज की संरचना (बनावट) किसी भी रूप में यूरोपियन समाज की संरचना से भिन्न (अलग) है। वह इस विवाद से निपटने के लिए यह कहते हैं कि हिन्दुओं की 'जाती-व्यवस्था' और पश्चिमी समाज की 'वर्ग-व्यवस्था' के बीच कोई भेद नहीं है। यह पूर्ण रूप से आभास कर सकने वाला झूठ है और जाती-व्यवस्था व वर्ग-व्यवस्था की पूर्ण अज्ञानता का खुलासा करता है। जाती-व्यवस्था एक ऐसी व्यवस्था है जो कि अलग-थलग (एकाकी, सबसे अलग) की भावना से संक्रमित है और वास्तव में इसकी (जाती-व्यवस्था का) यह (किसी गुण के सामान) विशेषता है कि यह एक जाती को दूसरी जाती से अलग-थलग करती है। वर्ग-व्यवस्था में भी एकाकीपन है पर वह न तो एकाकीपन को विशेषता बनाता है और न ही सामाजिक संसर्ग (समाज से समाज का जुड़ना, मेल-जोल) को प्रतिबंधित करता है (*यूरोपियन समाज में गुलाम भी राजा बने पर हिन्दू समाज में जाती में किया जा सकनेवाला काम ही पीढ़ी-दर-पीढ़ी किया जा सकता था)। यह सच है कि वर्ग-व्यवस्था ने समूहों को उत्पन्न किया है। पर वह (समूह) जाती समूहों के समरूपी (समान रूप वाले) नहीं हैं। वर्ग-व्यवस्था के समूह मात्र गैर-सामाजिक (समाज को विभाजित करने वाला) हैं जबकि जाती-व्यवस्था में जातियां अपने परस्पर सम्बन्ध में निश्चित और स्पष्ट रूप से असामाजिक (समजा का बुरा करने वाली) हैं।

यदि वह विश्लेषण सही है तो इस तथ्य से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि हिन्दू समाज की सामाजिक संरचना (यूरोपियन वर्ग-व्यवस्था की सामाजिक संरचना से) भिन्न है और इसके परिणाम स्वरूप इसकी (हिन्दू समाज की) राजनितिक संरचना (बनावट) को भी भिन्न होना चाहिए (*अर्थात भारतीय संविधान की बनावट यूरोपियन व अन्य देशों के संविधानों से इसलिए भिन्न होनी चाहिए क्योंकि भारत में हिन्दू धर्म की जाती-व्यवस्था और यूरोप की वर्ग-व्यवस्था में भिन्नता है, और जाती का एकाकीपन इस भिन्नता की एक प्रमुख विशेषता है)। स्पष्ट शब्दों में कहा जाए तो अछूत यही चाह रहे हैं कि (लक्ष्यों को प्राप्त करने वाले) माध्यम (साधन) और लक्ष्यों के बीच उचित सम्बन्ध होना चाइए। लक्षय एक ही है। पर चूँकि लक्षय सामान ही है, पर इसका यह अर्थ नहीं निकालना चाहिए कि लक्षय को प्राप्त करनेवाले साधन भी सामान ही हो। वास्तव में, लक्षय सामान ही रह सकते हैं और फिर भी (उनको प्राप्त करने के) माध्यम समय और स्थिति के हिसाब से भिन्न हो सकते हैं। जो अपने लक्ष्यों को पाने के लिए सजग (सचेत) हैं, यदि उनकी यह इच्छा है कि उनके दिमागों में जो लक्षय हैं वह शिथिल (निर्जीव, हतोत्साहित, बिना दम वाला) न पड़ जाए, तो उन्हें इस तथ्य को जरूर स्वीकारना चाहिए और (लक्षय प्राप्ति के) दूसरे माध्यमों को अपनाने के लिए स्वीकार कर लेना (मान लेना) चाहिए।

मैं इस सम्बन्ध में एक और बात का उल्लेख करना चाहूंगा। जैसा कि मैंने कहा कि, जाती हिन्दू समाज का ऐसा आधार है जिसकी वजह से यह आवश्यक है कि राजनीतिक संरचना को भिन्न होना चाहिए और वह सामाजिक संरचना के अनुकूल हो। बहुत से लोग इसे स्वीकार करते हैं परन्तु तर्क देते हैं कि हिन्दू समाज में जातियां समाप्त की जा सकती है। मैं इस बात को नकारता हूँ। जो इस बात की वकालत करते हैं वह सोचते हैं कि जाती कोई ऐसी संस्था है जैसे क्लब, नगर-पालिका या काउंटी काउन्सिल। यह पूर्णतः एक गलती है। 'जाती' है 'धर्म' और धर्म एक संस्था के सिवाय और कुछ नहीं।  इसे (जाती) को (संस्था - धर्म) में प्रतिपादित (संस्थागत) किया जा सकता है पर यह (जाती) उस संस्था के सामान नहीं बन पाएगा जिसमे इसे रोपा गया है (*अर्थात जाती ही धर्म है, अर्थात हिन्दू धर्म का अर्थ ही है जात-पात)। धर्म प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में क्रमशः (धीरे-धीरे) विस्तृत होने वाली एक शक्ति या प्रभाव है जो कि उसकी पसंद और नापसंद, उसके कार्यों और प्रतिक्रियाओं को निर्धारित करता, उसके चरित्र को अकार देता है। यह पसंद और नापसंद, कार्य और प्रतिक्रियाएं ऐसे संस्था नहीं हैं जिन्हें काट (कर अलग कर) दिया जाए। यह वे शक्तियां और प्रभाव हैं जिनसे निपटने के लिए यह जरुरी है कि इन्हें नियंत्रित और रोकथाम की जाए (*अर्थात हिन्दू धर्म की जातपात की रोकथाम उन लोगों को राजनितिक अधिकार दे कर ही प्राप्त जी जा सकती है जो इस पक्षपात के शिकार हैं)। यदि सामाजिक शक्तियों को राजनीती को विषाक्त करने से रोकना है, और (सामाजिक शक्तियों को) इन्हें कुछ लोगों की शक्तिवाहिनी (शक्ति प्रदान करने वाली) और बहुत से लोगों के पतन करने से रोकना है, तो इससे यही निष्कर्ष निकलता है कि राजनितिक संरचना इस प्रकार बनाई जाए जिससे कि इसमें ऐसी व्यवस्था करने का क्रिया-तंत्र हो जिससे कि पक्षपात (पूर्वाग्रहों) को बंद किया जाए और उस अन्याय को निष्क्रिय किया जाए को उन सामाजिक शक्तियों को खुल्ला छोड़ दिए जाने पर होता है।

अब तक मैंने सामान्य रूप से यह स्पष्ट किया है कि एक विशिष्ट सामाजिक संरचना वाले हिन्दू समाज के लिए, एक विशिष्ट राजनैतिक संरचना (बनावट) की क्यों आवश्यकता है और भारत के संविधान को बनाने वाले इन समस्याओं की अनदेखी क्यों नहीं कर सकते, जैसी समस्याएं अन्य देशों के संविधान निर्माताओं को परेशान नहीं करती। अब मैं विशिष्ट प्रश्न पर आता हूँ, कि भारतीय संविधान में साम्प्रदायिक योजना (*समुदायों के हिसाब से अधिकार देने की योजना) को स्थान देना क्यों आवशयक है, और अछूतों के लिए सरकारी सेवाओं में स्थान क्यों उल्लेखित (*विशेष रूप से लिखना या वर्णित किया) जाए और उनके निजी अधिकार के रूप में उन्हें सौपे जाएं। इन मांगों का औचित्य सहज और स्वाभाविक है। यह बात इस निर्विवाद तथ्य से उत्पन्न होती है कि हिन्दुओं से अछूतों को अलग करना, गैर-जरुरी मुद्दों की भिन्नता के कारण नहीं है। यह मूलभूत शत्रुता और बैर का मुद्दा है। इस शत्रुता और बैर के लिए किसी प्रमाण की आवश्यकता नहीं है। अस्पृश्यता की प्रणाली हिन्दुओं और अछूतों के बीच निहित (अन्तर्हित) शत्रुता के लिए पर्याप्त सबूत है। इस शत्रुता को देखते हुए अछूतों से यह कामना करना सहजतः असंभव है कि, हिन्दुओं की अंग्रेजों से स्वतंत्रता मिलने पर, अछूत उन (हिन्दुओं) पर इस बात पर आश्रित रहें और विशवास करें कि हिन्दू उनके साथ न्याय करेंगे। कौन कह सकता है कि अछूत यह कहने में सही नहीं हैं कि वह हिन्दू पर भरोसा  नहीं करते? अछूत के लिए हिन्दू उतना ही परदेसी है जितना की यूरोपियन है और सबसे बुरा यह है कि यूरोपवासी विदेशी होते हुए भी निष्पक्ष हैं जबकि हिन्दू अपने वर्ग के लिए बेशर्मी से पक्षपात करता है और अछूतों से शत्रुता रखता है। इसमें कोई संशय नहीं कि हिंदू ने इतने युगों से ऐसे बैर, तिरस्कार और अवहेलना की है जैसे वह किसी भिन्न और घृणा किए जानेवाले समाज के तबके से हो, जैसे किसी दूसरी ही प्रजाति से न हो। अपनी मान्यताओं के अनुरूप हिन्दू अपने को अतिविशिष्ट वर्ग मानता है वह अपने पूर्वाग्रहों के कारण अछूतों की आकांक्षाओं का कभी ध्यान नहीं रखता, उनसे वह कोई सम्बन्ध नहीं रखना चाहता और वह उनके हितों का विरोधी है। ऐसे लोगों पर अछूत अपना भाग्य कैसे छोड़ सकते हैं? अछूतों से यह पूछना कितना न्याय सांगत है कि वे अपना हित ऐसे लोगों के हाथों में छोड़ दे जो कि अपने उद्देश्यों और इच्छाओं में उनके (अछूतों के) विरोधी हैं, जिनकी अछूतों को शक्तिशाली प्रदान करनेवाली जैविक शक्तियों से सहानुभूति नहीं है, जिनमें उनकी चाहतों, मनोकामनाओं और इच्छाओं के लिए कोई जोश नहीं है, जिनमें उनकी आकांक्षाओं के प्रति (मिटा देने वाली) शत्रुता है, जो निश्चित ही उन्हें न्याय देने से इंकार कर देंगे, और उनसे भेदभाव करेंगे, और जो अपने धार्मिक प्रतिबंधों से अछूतों के प्रति निर्लज्जता (बेशर्मी से) से किसी भी प्रकार का अमानवीय व्यहवाहर करने से न रुके थे और न रुकेंगे (*इस कथन की सच्चाई आज वर्षों उपरांत भी ज्यों-की-त्यों है)। ऐसे लोगों से मात्र यही सुरक्षा है, जो कि अछूत हिन्दू बहुसंख्यकों की क्रूरता से उनको सुरक्षा प्रदान करवा सकता है, कि संविधान में उनके राजनीतिक अधिकारों को (*स्पष्ट रूप से) वर्णित किया जाए। क्या अछूतों की यह मांग गैर-जरुरी (अत्याधिक) है?

* अनुवादक की टिप्पणियाँ  

डॉ भीमराव अम्बेडकर के अनुयाईयों के लिए एक दुखद सूचना अधिक-से-अधिक शेयर (साझा) करें 
अब देखिए उदाहरण के साथ : नीचे जाएं 

प्रिय मित्रों जय भीम।

मैं निखिल सबलानिया, नई दिल्ली से आपको यह सूचित करता हूँ कि आप में से जो भी लोग डॉ. भीम राव अम्बेडकर के हिंदी व अन्य भाषाओं में प्रकाशित किए गए भारत सरकार के वांग्मय को पढ़ रहे हैं वें या तो इंग्लिश सीख कर उन्हें इंग्लिश में पढ़े, अथवा रूपये एकत्र करके उनका किसी विद्वान से सही अनुवाद किसी दूसरी भाषा में करवाएं। मैंने हिंदी भाषा में प्रकाशित भारत सरकार के वांग्मय को जब बाबा साहिब के अंग्रेजी के असली लेखों से चेक किया तो पाया कि डॉ. अम्बेडकर की असल लेखनी को इतना तोड़ मरोड़ दिया गया है कि एक तो वह समझ ही नहीं आती और दूसरी सबसे बुरी बात कि उसका उलटा ही अर्थ निकलता है। तो बाबा साहिब अपनी असल लेखनी मैं जैसा इंग्लिश में लिखते हैं, भारत सरकार द्वारा प्रकाशित हिंदी लेखनी में उसका उलटा ही है। और यह छेड़छाड़ उन प्रमुख स्थानों पर है जहां बाबा साहिब मुख्य बात लिखना चाहत (या बताना चाहते) हैं। प्रश्न यह उठता है कि क्या प्राइवेट प्रकाशकों की पुस्तकें सही हैं ? मैंने जो अपने अध्यन्न में पाया है, वह यह है कि प्राइवेट प्रकाशकों ने भी भारत सरकार के उसी वांग्मय को थोड़ा बदल कर प्रकाशित किया है। अर्थात उन्होंने भी सही प्रकार अनुवाद नहीं किया।

मैं आपसे यह बात कहना चाहता हूँ कि डॉ. अम्बेडकर की लेखनी इंग्लिश में ही पढ़ें। अथवा जैसे  मैंने ऊपर लिखा है, कि रूपये एकत्र करके उसका सही विद्वान से ही अनुवाद कराया जाए। कृपया इस बात को अधिक-से-अधिक लोगों तक फैलाएं, और उन्हें सतर्क कर दें कि वें डॉ. अम्बेडकर की लेखनी इंग्लिश में ही पढ़ें। मैं स्वयं भी डॉ. अम्बेडकर के कुछ लेखों का अनुवाद कर रहा हूँ और उन्हें धीरे-धीरे प्रकाशित करूंगा। समय की कमी होने के कारण मैं हिंदी वांग्मय की सहायता लूंगा परन्तु डॉ. अम्बेडकर की लिखी मुख्य बात को चेक करके, सही करके ही प्रकाशित करूंगा।

जैसा कि मैंने ऊपर लिखा है कि यह सूचना दुखद है, क्योंकि हज़ारों लोग डॉ. अम्बेडकर के वांग्मय पढ़ते हैं, परन्तु यह वांग्मय इस प्रकार उन्हें वह सूचना देने की बजाए, जो कि डॉ. अम्बेडकर बताना चाहते थे, गलत और उलटी ही सूचना दी जा रही है। यह कितनी दुखद बात है। जैसा कि मैं कहता हूँ, कि सरकार के भरोसे नहीं रहना चाहिए, आज फिर मैं यही कहूँगा कि सरकार के भरोसे न रहें और अपना, सही प्रकाशन, अपने सही विद्वानों से ही करवाएं।

एक उदाहरण देखिए:

डॉ. भीमराव अम्बेडकर के एक भाषा में वांग्मय में इस प्रकार एक वाक्य लिखा है।

केवल हिन्दुओं की जाती प्रथा और सामाजिक व्यवस्था ही इसके लिए उत्तरदायी हैं। विदेशियों के समक्ष यथोचित व्याख्या के लिए हिन्दू समाज और धर्म व्यवस्था के फलितार्थ बताने के लिए यह संक्षिप्त वक्तवय पर्याप्त नहीं है। (गलत)

एक प्राइवेट प्रकाशक ने वांग्मय के वाक्य में केवल के स्थान पर "इसके लिए" लगा कर बाकी वाक्य को को वैसा का वैसा प्रकाशित कर दिया है:

इसके लिए हिन्दुओं की जाती प्रथा और सामाजिक व्यवस्था ही इसके लिए उत्तरदायी हैं। विदेशियों के समक्ष यथोचित व्याख्या के लिए हिन्दू समाज और धर्म व्यवस्था के फलितार्थ बताने के लिए यह संक्षिप्त वक्तवय पर्याप्त नहीं है। (गलत)

अब देखिए की डॉ. अम्बेडकर के असल इंग्लिश भाषण में क्या लिखा है।

It is the Caste system and the Religious system of the Hindus which is solely responsible for this. This short statement may not suffice to give an adequate explanation to foreigners of the social and political repercussions of the Hindu Caste and Religious systems.


अब देखिए की डॉ. अम्बेडकर के उपरोक्त वाक्य का सही अनुवाद क्या है और उस अनुवाद और वांग्मय और प्राइवेट प्रकाशक के अनुवाद में कितना और किस प्रकार का अंतर है :

It is the Caste system and the Religious system of the Hindus which is solely responsible for this.

मेरे द्वारा किया गया अनुवाद :

यह केवल हिन्दुओं की जाती प्रथा और धार्मिक व्यवस्था ही है जो कि इसके लिए उत्तरदायी हैं। (सही)   

वांग्मय और प्राइवेट प्रकाशक ने इंग्लिश के शब्दों  "Religious system" के स्थान पर "सामाजिक व्यवस्था" शब्द जोड़े हैं, जबकि शब्द हैं "धार्मिक व्यवस्था।" वांग्मय का अनुवाद करनेवालो ने किस प्रकार चतुराई से 'धर्म' की जगह 'समाज' शब्द का प्रयोग कर लिया और प्राइवेट प्रकाशक ने वांग्मय से जैसा का तैसा उठा कर प्रकाशित कर दिया और दोनों ने डॉ. अम्बेडकर  की बात को किस ढंग से गलत प्रकाशित कर दिया। 

अब दूसरा वाक्य देखिए :

This short statement may not suffice to give an adequate
explanation to foreigners of the social and political
repercussions of the Hindu Caste and eligious systems.

वांग्मय और प्राइवेट प्रकाशक का :
विदेशियों के समक्ष यथोचित व्याख्या के लिए हिन्दू समाज और धर्म व्यवस्था के फलितार्थ बताने के लिए यह संक्षिप्त वक्तवय पर्याप्त नहीं है।
मेरे द्वारा अनुवादित वाक्य :

यह संक्षिप्त वक्तवय, विदेशियों के समक्ष हिन्दू - जाती प्रथा और 
धार्मिक व्यवस्था के सामाजिक और राजनीतिक दुष्प्रभाव  (प्रतिघातबुरे प्रभाव) की यथोचित व्याख्या के लिए  पर्याप्त नहीं है। (सही)   

वांग्मय में और प्राइवेट प्रकाशक ने डॉ. अम्बेडकर के वाक्य में लिखित शब्दों Hindu Caste के लिए "हिन्दू समाज" शब्द का प्रयोग किया है जबकि उसका सही अनुवाद है "हिन्दू जाती प्रथा," जिससे कि बात का अर्थ ही बदल जाता है। डॉ. अम्बेडकर द्वारा लिखित शब्दों social and political (सामाजिक और राजनीतिकको तो वांग्मय और प्राइवेट प्रकाशक ने एकदम उड़ा ही दिया है, जिसे मैंने अपने अनुवाद में शामिल किया है (आप उसे बोल्ड शब्दों में देख सकते हैं। अब एक बार दूसरे वांग्मय और प्राइवेट प्रकाशक द्वारा अनुवादित दूसरे वाक्य के अनुवाद पर ध्यान दीजिए और फिर उसकी मेरे द्वारा अनुवादित वाक्य से तुलना कीजिए, तो आपके होश ही उड़ जाएंगे कि किस प्रकार महान विद्वान और लेखक डॉ. अम्बेडकर के वाक्य को बदल दिया गया है। देखिए कि कैसे उन्होंने क्या लिखा और उसको किस प्रकार अनुवादित करके प्रकाशित किया गया है। 

सबसे बुरी बात यह है की डॉ. अम्बेडकर ने प्रयोग किए शब्द repercussions के स्थान पर वांग्मय और प्राइवेट प्रकाशक के 'फलितार्थ' शब्द  लगाया है , जिसका अर्थ है फलतः (इसके स्वरूप) और यह वह अर्थ नहीं है जो कि डॉ. अम्बेडकर के लिखे गए शब्द का सही अर्थ है। डॉ. अम्बेडकर के शब्द का सही अर्थ है : "दुष्प्रभाव" (बुरा प्रभाव" या "प्रतिघात) 

अर्थात वांग्मय और प्राइवेट प्रकाशक ने डॉ. अम्बेडकर के शब्द को गलत ढंग से अनुवादित करके प्रकाशित किया है जिससे उसका वह अर्थ नहीं निकलता जो डॉ. अम्बेडकर की इंग्लिश वाली असल लेखनी में लिखा है। 

यह तो आपने एक उदाहरण देखा है, पर वांग्मय और उससे नक़ल करके प्राइवेट प्रकाशकों द्वारा प्रकाशित किए गए डॉ. अम्बेडकर की पुस्तकों और लेखनी में किस प्रकार बाबा साहिब की असली लेखनी को बदला जा रहा है, यह सच में एक पीड़ादायक, दुखी बात है।

केवल हिन्दुओं की जाती प्रथा और सामाजिक व्यवस्था ही इसके लिए उत्तरदायी हैं। विदेशियों के समक्ष यथोचित व्याख्या के लिए हिन्दू समाज और धर्म व्यवस्था के फलितार्थ बताने के लिए यह संक्षिप्त वक्तवय पर्याप्त नहीं है। (गलत)

यह केवल हिन्दुओं की जाती प्रथा और धार्मिक व्यवस्था ही है जो कि इसके लिए उत्तरदायी हैं। यह संक्षिप्त वक्तवय, विदेशियों के
समक्ष हिन्दू - जाती प्रथा और धार्मिक व्यवस्था के सामाजिक
और राजनीतिक दुष्प्रभाव (बुरे प्रभाव) की यथोचित व्याख्या के लिए पर्याप्त नहीं है। (सही)  

इंग्लिश में डॉ. अम्बेडकर की समस्त लेखनी नीचे दिए लिंक से डाऊनलोड करें 

यदि डॉ भीमराव अम्बेडकर के विचारों को प्रसारित करने का हमारा यह कार्य आपको प्रशंसनीय लगता है तो आप हमें कुछ दान दे कर ऐसे कार्यों को आगे बढ़ाने में हमारी सहायता कर सकते हैं। दान आप नीचे दिए बैंक खाते में जमा करा कर हमें भेज सकते हैं। भेजने से पहले फोन करके सूचित कर दें। 

Donate: If you think that our work is useful then please send some donation to promote the work of Dr. BR Ambedkar

Deposit all your donations to -
State Bank of India (SBI) ACCOUNT: 10344174766, 
TYPE: SAVING,
HOLDER: NIKHIL SABLANIA 
Branch code: 1275, 
IFSC Code: SBIN0001275, 
Branch: PADAM SINGH ROAD, 
Delhi-110005.

For inquiries call: 8527533051 sablanian@gmail.com

डॉ. भीमराव अम्बेडकर के 125 वीं वर्षगाँठ 14 अप्रेल 2016 उत्सव पर विशेष प्रिंटेड टीशर्टस। 

Introducing 125th Anniversary Celebration 14th April 

2016 Printed T-shirts of Dr. B.R. Ambedkar. 

Call 8527533051, 
sablanian@gmail.com